बुखार क्या होता है कारण,लक्षण और घरेलू उपचार

fever क्या होता है कारण,लक्षण और घरेलू उपचार

बुखार क्या होता है कारण,लक्षण और घरेलू उपचार
बुखार क्या होता है कारण,लक्षण और घरेलू उपचार

आप सब ने सुना ही होगा बुखार के बारे में तो लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि बुखार होता क्यों है? जब हमारे शरीर का तापमान अचानक से बहुत ही ज्यादा हो जाता है

जो कि सामान्य से कहीं अधिक होता है तो ऐसी स्थिति को बुखार के रूप में जाना जाता है। बुखार वैसे तो बहुत ही सामान्य रोग है। लेकिन यदि समय पर इसका उपचार नहीं किया जाता है

तो यह बहुत ही गंभीर रूप ले लेता है। बुखार होने पर हमारा शरीर पूरी तरह से टूट जाता है। पूरे शरीर के जोड़ दुखने लग जाते हैं। शरीर का तापमान बहुत ही ज्यादा हो जाता है।

बुखार होने पर हमारे शरीर में अत्यधिक थकान हो जाती है। पानी की कमी भी बुखार के दौरान आ सकती है। एक अजीब सी बेचेनी और घबराहट बुखार के कारण शरीर में होती है।

किसी भी काम में मन नहीं लगता। वैसे तो बुखार का इलाज घर पर भी किया जा सकता है। लेकिन यदि तीन.-चार दिन में घरेलू नुस्खों से बुखार दूर ना हो तो फिर आपको चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।

बुखार के लक्षण

बुखार के लक्षण निम्नलिखित होते हैं जो यदि आपको महसूस हो रहे हैं तो आप अपने शरीर का परीक्षण अवश्य कराएं।

अचानक अगर आपके शरीर का तापमान 102 डिग्री फारेनहाइट से भी ज्यादा हो गया है तो यह बुखार का लक्षण हो सकता है।

बुखार क्या होता है कारण,लक्षण और घरेलू उपचार in hindi
बुखार दूर करने के लिए कुछ घरेलू उपाय

बहुत तेज सर्दी लगना या कपकपी होना, पूरे शरीर में बहुत ज्यादा दर्द होना और सारे जोड़ों का दुखना भी बुखार का एक लक्षण माना जाता है।

शरीर में बहुत अधिक मात्रा में पसीना आना ,बहुत अधिक थकान महसूस करना ,सिर में तेज दर्द होना तथा आंखों में से गर्मी महसूस होना ,भूख और नींद में कमी आ जाना बुखार के कारण हो सकते हैं।

बुखार होने का कारण-

हमारे मस्तिष्क में 1 भाग होता है जिसे हम हाइपोथैलेमस कहते हैं। इसका कार्य होता है हमारे शरीर के तापमान को नियंत्रित रखना। बुखार होने की स्थिति में हाइपोथैलेमस शरीर के तापमान को निर्धारित स्थिति से बढ़ा देता है।

इसे भी पढे – टमाटर खाने के फायदे और नुकसान

शरीर का तापमान अचानक से बढ़ने से शरीर में बहुत तेज सर्दी लगती है और कपकपी सी आपको महसूस होती है। इससे बचने के लिए जब आप ज्यादा कपड़े पहन लेते हैं या कुछ औढ लेते हैं तो इस कारण से शरीर का तापमान बहुत ज्यादा हो जाता है।

शरीर का तापमान कभी स्थिर नहीं रहता दिन के समय शरीर का तापमान अलग होता है ,रात्रि के समय अलग होता है। ज्यादातर लोगों का यही मानना है कि 37 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान सामान्य तापमान है।

बुखार दूर करने के लिए कुछ घरेलू उपाय-

यदि आपके शरीर का तापमान बहुत ही ज्यादा हो गया है तो आपको ठंडे पानी की पट्टियां सिर पर थोड़ी-थोड़ी देर में रखनी चाहिए। इससे शरीर का तापमान सामान्य रहेगा।

एक कप पानी में चार-पांच तुलसी के पत्ते और कुछ मात्रा में अदरक लेकर इससे अच्छे से उबाल ले और जब पानी आधा रह जाए तो इस पानी को ठंडा कर ले। अब इसमें एक चम्मच शहद मिला लें।

इसका दिन में तीन-चार बार सेवन करें। बुखार को दूर करने के लिए यह बहुत ही अच्छा नुस्खा है क्योंकि तुलसी आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाती है। जिससे कि आप जल्दी स्वस्थ होते हैं।

थोड़ी सी मात्रा में काली मिर्च यानी कि आठ-दस ले ले और इसे तुलसी के पत्तों के साथ पानी में उबालें। इस पानी को दिन में थोड़ा- थोड़ा करके पीये। फीवर दूर करने के लिए यह भी अच्छा नुस्खा है।

सेब का सिरका

सेब का सिरका भी बुखार में लाभदायक माना जाता है। एक गिलास पानी ले ,इसमें थोड़ी सी मात्रा में सेब का सिरका और शहद मिला लें। इस पानी का सेवन 3-4 बार जरूर करें। इससे आपको बुखार में लाभ होगा।

जैतून के तेल में 4-5 कलियां लहसुन की ओर चार-पांच लांेग (clove) को मिलाकर अच्छे से उबालें और इस मिश्रण को हाथ और पैर के तलवों पर मालिश करने से आपको बुखार में बहुत ही ज्यादा लाभ होगा।

यह बहुत ही असरदार नुस्खा है ,इससे 1- 2 दिन में ही आपकी बुखार ठीक हो जाएगी। परन्तु इस बात को भी नजरअंदाज ना करे कि गर्भवती महिलाएं और बच्चे इस नुस्खे का प्रयोग ना करें।

इसे भी पढे – आलू खाने के फायदे और नुकसान

बुखार को दूर करने के लिए आप बड़े दाख यानी कि मुनक्का का सेवन भी कर सकते हैं। मुनक्का शरीर में मौजूद टॉक्सिंस (toxins) को बाहर निकालने में मदद करता है। 20 से 25 मुनक्के ले और इन्हें पानी में डालकर कुछ समय के लिए छोड़ दें।

जब यह नरम हो जाए तो इन्हें पेस्ट के रूप में तैयार कर ले। इस पेस्ट के द्वारा मुनक्के का रस निकाल ले और इस रस का सेवन तब तक करें ,जब तक कि आप की बुखार ठीक ना हो जाए। बुखार ठीक करने के लिए यह नुस्खा बहुत ही अच्छा होता है।

बुखार के कारण शरीर में आई कमजोरी भी इस नुस्खे के प्रयोग से दूर हो जाएगी और आपको अच्छी भूख भी लगेगी। शरीर में रक्त की मात्रा भी इससे बढ़ती है।

एक कप पानी में बहुत सारी मात्रा में अदरक डाल कर इसे अच्छे से उबाल ले ,जब यह आधा रह जाए तो इसका सेवन करें। यह भी बुखार को ठीक करने के लिए कारगर उपाय है।

गिलोय का उपयोग

बुखार को दूर करने के लिए आप गिलोय का उपयोग भी कर सकते हैं। यह बहुत ही अच्छा और असरदार उपाय है। इसके लिए आप गिलोय के तने को तोड़ ले ,उसके बाद इसे अच्छे से पानी में उबाल ले।

पानी जब आधा रह जाए तो इसे छानकर चार-पांच दिन तक नियमित रूप से पीये। इससे आपकी बुखार जड़ से दूर हो जाएगी। एक कप पानी ले और इसमे पोदीना के पत्तों को इसमें डाल कर उबालले।

इसे भी पढे – चावल खाने के फायदे और नुकसान

यह ठंडा हो जाए ,तो इसमें थोड़ी सी मात्रा में शहद मिला लें और इस मिश्रण का उपयोग करें। यह बुखार के लिए अच्छा उपाय है।

बुखार जैसे रोग से आप परेशान हो तो उस समय आपको पानी की भरपूर मात्रा लेनी है ताकि आपका शरीर डिहाइड्रेशन का शिकार ना हो। ज्यादा पानी पीने से शरीर के हानिकारक टॉक्सिंस बाहर निकल जाते हैं।

बुखार में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए-

आप सभी जानते हैं कि जब भी हमारे शरीर में किसी भी तरह का कोई रोग होता है तो हमें भारी भोजन करने की अपेक्षा हल्का और सुपाच्य भोजन करना चाहिए।

ज्यादा से ज्यादा फलों का जूस लेना चाहिए ,जब भी आप बीमार हो तो आपको फास्ट फूड ,कोल्ड्रिंक तला हुआ भोजन ,मांस ,मछली ,अंडा इनका सेवन नहीं करना चाहिए।

इसे भी पढे – संतरा खाने के फायदे और नुकसान

इसकी जगह आप दलिया ,खिचड़ी ,राबड़ी आदि का सेवन कर सकते हैं। आप जितना सुपाच्य भोजन करेंगे उतनी ही जल्दी आप स्वस्थ होंगे। ज्यादा से ज्यादा तरल चीजें खाने का प्रयास करें।

यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आता है तो हमें कमेंट करके जरूर बताइए और अपने दोस्तों के साथ भी इसे शेयर करिए ताकि हम इस तरह की रोचक जानकारियां भविष्य में भी आपके लिए लाते रहे।

 धन्यवाद

अस्वीकरण

दी गई सभी जानकारी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञान के लिए दी गई है। हम क्षेत्र इकाई से अनुरोध करते हैं कि आप किसी भी सिफारिश / संकल्प का प्रयास करने से पहले अपने चिकित्सक से संपर्क करें।

इस स्वास्थ्य से जुड़ी इस वेब साइट का उद्देश्य आपको अपने स्वास्थ्य से जुड़ा बनाना है और स्वास्थ्य से जुड़े आंकड़ों की आपूर्ति करना है। आपके डॉक्टर के पास आपके स्वास्थ्य के संबंध में उच्च डेटा है और उनकी सिफारिश का कोई विकल्प नहीं है।

Share post

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *