Home remedy for irregular periods

Home remedy for irregular periods अनियमित मासिक धर्म की समस्या से आज के समय में बहुत ज्यादा महिलाएं परेशान है।

इसे भी पढे shilajit ke fayde

आपको अपने आसपास ऐसी कई महिलाएं या लड़कियां मिल जाएगी। जिन्हें आपने कभी कहते हुए सुना होगा कि मेरे पीरियड्स या माहवारी समय से नहीं आता है। किसी का देर से आता है, तो किसी का जल्दी आता है।

इसे भी पढे is sex safe during pregnancy

किसी महिला को तो दो-तीन महीने में जाकर माहवारी होती है। देखा जाए तो यह बहुत ही सामान्य समस्या है। लेकिन एक तरह से यह गंभीर भी है, क्योंकि माहवारी आना आपके स्वस्थ रहने के लिए अत्यंत आवश्यक है।

यदि आपको हर माह पीरियड्स नहीं आते हैं तो आप कई तरह से शारीरिक बीमारियों से ग्रस्त हो सकते हैं। आज हम इस लेख के माध्यम से आपको बताएंगे कि क्या-क्या कारण हो सकते हैं।

इसे भी पढे pregnancy se jude mithak hindi me

जिनकी वजह से आपके पीरियड्स यानी की माहवारी कभी देर से तो कभी जल्दी होती है। इसके साथ ही हम आपको यह भी बताएंगे की माहवारी को नियमित करने के लिए आप कौन-कौन से घरेलू उपाय आजमा सकते हैं। जिन से आपको निश्चित तौर पर फायदा मिलेगा।

इसे भी पढेSex in pregnancy is good or bad in hindi

हम यह भी जानेंगे कि यदि माहवारी नियमित ना हो तो आपको किस की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। आज के समय में हर किसी को किसी ने किसी बात की चिंता या टेंशन रहती ही है। विशेषकर यह चिंता महिलाओं को ज्यादा घेरे रहती है।

महिलाएं बहुत प्रयास करती है कि वह तनाव से दूर रहे। लेकिन उनकी जो दिनचर्या है वह इतनी व्यस्त और जिम्मेदारी भरी होती है, कि वह चाहकर भी तनाव से मुक्त नहीं हो पाती।

इसे भी पढे – Pragnency ke liye jruri tips

फलस्वरुप अनियमित पीरियड्स (irregular periods reasons in hindi) जैसी समस्याएं महिलाओं को होने लगती है। वैसे तो यह समस्या बहुत ही सामान्य मानी जाती है। लेकिन आप जानते हैं कि कोई भी समस्या हो शरीर से संबंधित तो वह हमारी दिनचर्या को बुरी तरह प्रभावित करती है।

इसलिए यह आवश्यक है कि आपके पीरियड समय पर हो। क्योंकि समय पर पीरियड्स नहीं आने से महिलाएं चिड़चिड़ी हो जाती है। उन्हें हर बात पर गुस्सा आता है।

इसे भी पढे –lakva kya hota h karan lakshan gharelu upay

जिससे उनकी दांपत्य जीवन पर भी काफी असर पड़ता है। कुछ घरेलू उपाय जिनका प्रयोग आप अपने अनियमित पीरियड्स को सही करने के लिए कर सकते हैं।

दालचीनी

दालचीनी का प्रयोग आप सभी ने किया ही होगा। इसे हम सामान्य रूप से गरम मसाले के रूप में काम में लेते हैं। लेकिन आपको यह शायद पता ना हो कि इसका प्रयोग करके आप अपने अनियमित पीरियड्स को नियमित कर सकते हैं।

इसे भी पढे How to heal cracked heels

पीरियड्स को नियमित करने में दालचीनी को रामबाण इलाज माना जाता है। यदि आप दालचीनी का प्रयोग करते हैं तो आप के अनियमित पीरियड की समस्या तो दूर होगी ही,

इसे भी पढेHow to heal cracked lips

इसके साथ पीरियड के समय होने वाले असहनीय दर्द से भी आपको काफी हद तक राहत मिलेगी।

दालचीनी का प्रयोग आप किस तरह करें

यह भी हम आपको यहां पर बता रहे हैं । इसके लिए आपको दालचीनी का पाउडर बना लेना है और आप इसे अपने खाने में शामिल करें या तो आप इसे दूध में मिलाकर पी सकते हैं।

यदि आप इसमें समर्थ नहीं है और आप को दूध के साथ इसे पीने में दिक्कत महसूस होती है। आप इसे अपने खाने में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसे भी पढे – Hair lose ke liye gharelu upay

अपने खाने में इस के चूर्ण को ऊपर से डाल दीजिए या चाय में या पानी में मिलाकर आप इसे पी लीजिए। अपने रोज की दिनचर्या में आधा चम्मच दालचीनी पाउडर का प्रयोग किसी न किसी रूप में अवश्य करें।

इससे आप के पीरियड्स में आने वाली सभी समस्याएं काफी हद तक दूर हो जाएंगी।

इसे भी पढे –Sinus kya h karan lakshan upchar

अदरक का प्रयोग

अनियमित पीरियड को सही करने के लिए अदरक का इस्तेमाल भी आप कर सकते हैं। इसके लिए आप अदरक को चाय में डालकर पी सकते हैं या फिर इसका काढ़ा बनाकर पी सकते हैं।

अदरक को आप अपने रोज के खाना बनाने में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। ताकि आपको अलग से अदरक खाने के लिए कोई मेहनत ना करनी पड़े। अपने रोज के मसाले में आप अदरक डाल सकते हैं।

इसे भी पढे – Dayriya kya h karan lakshan gharelu upay

यदि आपको अदरक आसानी से उपलब्ध नहीं हो पा रहा है तो आप इसका सूखा हुआ रूप यानी की सौठ को भी काम में ले सकते हैं। यह भी उतना ही असरदार है

यदि आप बिल्कुल भी मेहनत नहीं करना चाहते, तो आप अदरक को छोटे टुकड़ो में काटकर इसका जूस बनाकर पी सकते हैं। यह भी उतना ही असरदार है ।

पपीता का उपयोग

पीरियड्स नियमित करने के लिए आप पपीते का प्रयोग भी कर सकते हैं। आप सभी जानते ही हैं कि पपीते का उपयोग पीरियड्स यानी की माहवारी लाने में किया जाता है।

इसी कारण से जब महिलाएं गर्भवती होती है तो उन्हें पपीता ना खाने की सलाह दी जाती है। क्योंकि पपीता के जो गुणधर्म है वह माहवारी लाने के लिए जिम्मेदार माने जाते हैं।

इसे भी पढेHeight badane ke tarike hindi me

इस वजह से गर्भवती महिलाओं को पपीते का सेवन करने से बचना चाहिए। क्योंकि इससे उनका गर्भ गिर सकता है। लेकिन जिन महिलाओं को अनियमित पीरियड्स की शिकायत है। how to get period early home remedies

उन्हें पपीते का सेवन अवश्य करना चाहिए और विशेषकर यदि आप कच्चे पपीते का सेवन करेंगे कि आपको और अधिक फायदा पहुंचाएगा। पपीता विटामिंस खनिज तत्व और कई प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर होता है।

पपीता के अंदर आयरन, कैल्शियम, विटामिन ए आदि पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं। 1-2 महीने तक लगातार पपीते का सेवन करें। इसके बाद इसका फर्क आपको स्वयं ही महसूस होने लगेगा कि यह कितना असरदार और चमत्कारी है।

पीरियड्स आने के कुछ दिनों पहले से ही पपीता खाना यदि आप शुरू कर देते हैं, तो फिर पीरियडस के समय आने वाली सभी समस्याओं से आपको छुटकारा मिल जाता है। इसे आप अपने सुबह के नाश्ते में भी ले सकते हैं।

चुकंदर

चुकंदर का प्रयोग भी आप अपने पीरियड्स रेगुलर करने के लिए कर सकते हैं। चुकंदर भी विटामिन खनिज तत्व और कई तरह के पोषक तत्व और विटामिन सी से भरपूर होता है।

इसे भी पढेWhy Health insurance is importannce

जो हमारे शरीर को बहुत ही लाभ पहुंचाते हैं। पीरियड को रेगुलर बनाए रखने में काफी हद तक मददगार होते हैं। यह तो आप सभी जानते ही होंगे कि

चुकंदर का प्रयोग करने से आपके शरीर में रक्त की मात्रा बढ़ती है। यदि आपके शरीर में रक्त की सही मात्रा रहेगी तो आपके पीरियड के समय आपको दिक्कत नहीं होगी। आसानी से आपका पीरियड आ जाएगा।

शरीर में रक्त के कम मात्रा होने की वजह से भी पीरियड समय पर नहीं आते हैं। चुकंदर का प्रयोग यदि आप करते हैं तो इससे रक्त का प्रवाह अच्छा रहेगा। जिस कारण से आपका पीरियड सही समय पर और आसानी से आ जाएगा।

चुकंदर को फोलिक एसिड का एक बहुत ही अच्छा स्रोत माना जाता है। इसके सेवन से आपके हार्मोनों का स्त्रवन सही होता है। चुकंदर को सलाद के रूप में आप खा सकते हैं। उसका जूस निकालकर भी पी सकते हैं।

तिल का प्रयोग

आप अपने मासिक धर्म को संतुलित करने के लिए कर सकते हैं। तिल में पाए जाने वाले जो पोषक तत्व है यह आपके शरीर के हार्मोन के लेवल को सही करते हैं।

तिल खाने के लिए आप इन्हे धोकर अच्छे से सुखा लें। उसके बाद थोड़ा सा भून लें। इन्हें आप चूर्ण बनाकर भी खा सकते हैं या फिर भूले हुए को भी आप थोड़ा थोड़ा रोज खा सकते हैं।

हल्दी का प्रयोग

पीरियड्स के लिए अच्छा माना जाता है। इसके लिए आप अपने रोज के खाने में जितनी हल्दी डालते हैं ,उससे ज्यादा हल्दी का प्रयोग करना शुरू कर दें। क्योंकि यह भी आपके हार्मोन मैं हुए असंतुलन को सही करने में मददगार है।

हल्दी की प्रकृति गर्म मानी जाती है। इसलिए आपको पीरियड्स के समय इसका अधिक सेवन करना चाहिए। क्योंकि गर्म चीजों के सेवन से पीरियड जल्दी आते हैं।

हल्दी को दूध में मिलाकर भी पी सकते हैं या फिर आप इसे अपने रोज के खाने में किसी भी प्रकार से ले सकते हैं। जिस तरह से आप इसे लेने में सक्षम हो और आपको कोई दिक्कत ना महसूस हो रही हो।

आप उसी तरह से हल्दी का प्रयोग कर सकते हैं। यहां पर आपको हमने जितने भी घरेलू नुस्खे अनियमित माहवारी को सही करने के लिए बताएं हैं, वो असरदार तो हे

लेकिन उसके साथ साथ यदि आप अपने जीवन शैली को बदलेंगे। एक अच्छी दिनचर्या बनाएंगे तो आपको आज नियमित माहवारी जैसे समस्याओं का सामना करना ही नहीं पड़ेगा।

दिनचर्या बनाएं

इसके लिए आप रोज सुबह जल्दी उठने की आदत डालें। उठकर अपने रोज की दिनचर्या से निवृत्त होकर कुछ समय के लिए एक्सरसाइज और व्यायाम करने की आदत बना लें।

क्योंकि व्यायाम (exercise) करने से आपके शरीर की सभी समस्याएं दूर हो जाती है। प्राणायाम (yoga) को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। इससे आपके शरीर के सारे विषाक्तत तत्व(toxins) बाहर निकल जाते हैं।

जिससे कि आपको अपने अंदर एक ऊर्जा का एहसास होता है और आपके शरीर में जितने भी बीमारियां है, वो धीरे धीरे मिटने लगती हे।

यदि आपको इन घरेलू उपायों से भी आराम नहीं मिलता है ,तो आपको अपने चिकित्सक की राय जरूर लेनी चाहिए। क्योंकि घरेलू उपायों की एक सीमा है जिसके अंदर यह काम करते हैं,

आवश्यक नहीं है कि यह आपकी समस्या को दूर कर ही दे। लेकिन यह बहुत ही असरदार है और अधिक अधिकतर लोगों को इन उपायों से लाभ प्राप्त हुआ है।

इसे भी पढे Vajan ghatane ke gharelu upay 

कुछ लोग जिन्हें कोई ज्यादा समस्या हो या किसी तरह की और बीमारी हो तो उन्हें अपने चिकित्सक से परामर्श अवश्य करना चाहिए।

irregular periods reason

अनियमित पीरियड्स की समस्या और भी कई कारणों से करती है। जैसे कि PCOS यानी कि पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम भी अनियमित्त माहवारी का कारण है। irregular periods symptoms

इसके अतिरिक्त आपको थायराइड की समस्या हो तो इसके कारण भी आप की माहवारी डिस्टर्ब हो जाती है।

पिट्यूटरी ग्लैंड यानी की पीयूष ग्रंथि द्वारा स्रावित होने वाले हार्मोन में असंतुलन के कारण भी माहवारी आने में देर होती हे।

इसलिए आपको अपने चिकित्सक से परामर्श करके इन सभी कारणों के बारे में पूर्ण रूप से पता कर लेना चाहिए कि वास्तविक कारण क्या है ?

जिस वजह से आपकी माहवारी का अनियमित हो रही है। उसके बाद ही आप इसका उपचार प्रारंभ करें तो आपको ज्यादा फायदा पहुंचेगा।

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो आप इसे लाइक शेयर और कमेंट करना ना भूले। और अपने दोस्तों को भी इसे शेयर करें ताकि उन्हें भी जानकारी प्राप्त हो सके।

अस्वीकरण

दी गई सभी जानकारी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञान के लिए दी गई है। हम क्षेत्र इकाई से अनुरोध करते हैं कि आप किसी भी सिफारिश / संकल्प का प्रयास करने से पहले अपने चिकित्सक से संपर्क करें। इस स्वास्थ्य से जुड़ी इस वेब साइट का उद्देश्य आपको अपने स्वास्थ्य से जुड़ा बनाना है और स्वास्थ्य से जुड़े आंकड़ों की आपूर्ति करना है। आपके डॉक्टर के पास आपके स्वास्थ्य के संबंध में उच्च डेटा है और उनकी सिफारिश का कोई विकल्प नहीं है।

Share post

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *