lakva kya hota h karan lakshan gharelu upay

पैरालाइसिस क्या है कारण लक्षण और घरेलू उपाय

lakva kya hota h karan lakshan gharelu upay
lakva kya hota h karan lakshan gharelu upay

आज के इस भाग दौड़ भरे समय में हर किसी को काम ही काम के बारे में ही सुझता हैं। अपने स्वास्थ्य के प्रति किसी को कोई चिंता ही नहीं है। जिसके फलस्वरूप वह जाने कौन- कौन सी बीमारीयो को मोल ले लेता है। ( lakva kya hota h karan lakshan gharelu upay )

इसे भी पढेटमाटर खाने के फायदे और नुकसान

व्यक्ति को बस पैसे कमाने का ही एक ऐसा सुरूर चढ़ा है कि उसे अपने स्वास्थ्य के प्रति कोई मतलब ही नहीं रह गया है। तो आप इस बात को ना भूले कि यदि आप स्वस्थ ही नहीं रहेंगे तो, आप पैसा कमाकर करेंगे क्या।

पैसा कमाने के लिए मेहनत करिए, वह बहुत जरूरी है यह सभी जानते हैं। लेकिन इस बात को बिल्कुल ना भूलिए कि आपका स्वास्थ्य उससे कहीं ज्यादा जरूरी है। आपकी दिनचर्या कितनी भी व्यस्त क्यों ना हो।

लेकिन अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही ना बरते और कुछ समय जरूर निकालें। अपनी दिनचर्या को कैसे पूरा करें। उसके बाद आप अपने काम में लग जाए। यदि स्वस्थ दिनचर्या बना लेंगे तो सभी बीमारियों से दूर रहेंगे। (lakva kya hota h karan lakshan gharelu upay)

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से पैरालाइसिस या लकवा बीमारी के बारे में बताने का प्रयास करेंगे। सर्वप्रथम हम यह जानेगे कि लकवा आखिर होता क्या है ?

पैरालाइसिस क्यों होता है किस तरह से हम इसका घरेलू उपचार कर सकते हैं-

जब हमारा शरीर किसी एक या शरीर की कई मांसपेशियों को हिलाने डुलाने में अक्षम हो जाता है तो इस स्थिति को हम लकवा या पैरालाइसिस के रूप में जानते हैं। वैसे तो मांसपेशियों में किसी भी कारण से अधिक खिंचाव आता है तो यह सामान्य बात है

इसे भी पढेDayriya kya h karan lakshan gharelu upay

यह लकवा का कारण नहीं है। मस्तिक मे से निकलने वाले संदेश हमारी तंत्रिकाओं के माध्यम से शरीर के सभी अंगो तक पहुंचते हैं। जिससे सभी अंग कार्य करते हैं लेकिन जब यह संदेश तंत्रिकाओं के माध्यम से शरीर के विभिन्न अंगो तक नहीं पहुंच पाते हैं

तो इस स्थिति में हमारा पूरा शरीर या कोई शरीर का एक भाग कार्य करना बंद कर देता है। इस स्थिति को ही हम लकवा, स्ट्रोक, पैरालाइसिस या पक्षाघात के नाम से जानते हैं।(lakva kya hota h karan lakshan gharelu upay)

लकवा होने के कुछ कारण (lakva kya hota h karan lakshan gharelu upay)

lakva kya hota h karan lakshan gharelu upay
lakva kya hota h

शरीर का रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) बहुत अधिक बढ़ जाने के कारण लकवा होने की संभावना हो सकती है। हमारे मस्तिष्क के किसी एक भाग में जब रक्त का बहना बंद हो जाता है तो उस स्थिति में लकवा हो जाता है।

क्योंकि रक्त का बहाव रोकने से मस्तिष्क के उसी हिस्से को काफी नुकसान पहुंचता है। हमारे शरीर के विभिन्न भागो तक रक्त ले जाने का कार्य नसों का होता है और जब यह नसों में रक्त का भहाव अवरुद्ध हो जाता है तो लकवा हो सकता है।

रक्त की नसों के फटने से –

मस्तिष्क में उपस्थित रक्त की नसों के फटने से भी लकवा हो जाता है। हमारे मस्तिष्क को रक्त पहुंचाने वाली नसों में यदि अंदर की और कोलेस्ट्रॉल जम जाता है। तो नसों का आकार कम हो जाता है जिससे यह रक्त के प्रवाह को रोक देती है।

पैरालाइसिस रोग के कुछ प्रमुख लक्षण-

अचानक से याददाश्त में बहुत अधिक परिवर्तन आना है। बोलने में बहुत ही दिक्कत महसूस करना, चेहरे का थोड़ा सा टेढ़ा सा लगना, अपने पांव पर खड़े रहने में असमर्थ होना, स्पष्ट ना बोल पाना, मुंह से लार का निकलना, शरीर का संतुलन एक ही तरफ हो जाना, आदि कुछ प्रमुख लक्षण है।

जिनसे हम यह पता कर सकते हैं कि व्यक्ति को लकवा रोग हो सकता है। यदि आपको इस तरह के लक्षण किसी व्यक्ति में दिखाई दे तो उसे तुरंत चिकित्सक के पास ले जाएं।

पैरालाइसिस रोग के लिए कुछ घरेलू उपचार-

छुहारे

दूध में थोड़े से छुहारे डालकर इसका सेवन लकवा ग्रस्त मरीज को कराएं तो लकवा कुछ ही दिनों में ठीक होने लगेगा। क्योंकि दूध तो आपके स्वास्थ्य के लिए उत्तम है तथा यह पोषक तत्वों से भरपूर होता है।

उड़द की दाल –

उड़द की दाल को पानी में उबालकर उसका पानी लकवे से ग्रसित मरीज को पिलाएं। फलों का सेवन भी आपको रोज करना है या तो आप इन्हें ऐसे ही खाएं या फिर उनका जूस निकाल कर निकाल कर इनका सेवन करें।

देसी घी का सेवन –

दो चम्मच देसी घी में चार-पांच कालीमिर्च को पीसकर किसका अच्छे से पेस्ट बना लें और जिन-जिन अंगों पर लकवा की समस्या है। उन पर इसे हल्के से मालिश करें।इससे आपको बहुत आराम होगा।

करेले का सेवन –

लकवे के रोग में बहुत ही लाभकारी होता है या तो आप इसे सब्जी के रूप में खा सकते हैं या फिर से जूस निकालकर इसका सेवन करें। आपको काफी लाभ होगा।

प्याज का सेवन –

इस बीमारी में बहुत ही अच्छा माना जाता है। खाने के साथ रोज प्याज खाएं या फिर प्याज का जूस भी आप ले सकते हैं। नियमित तौर पर इसका सेवन करेंगे तो आपको लकवे की बीमारी से जल्दी आराम मिल जाएगा। (lakva kya hota h karan lakshan gharelu upay)

लहसुन –

थोड़े से मक्खन में लहसुन की कलियां डालकर इसे अच्छे से मिक्स कर ले और नियमित रूप से इस मिश्रण का प्रयोग करें। इससे आपको शीघ्र ही लाभ मिलेगा।

तुलसी के पत्ते –

एक कप दही में 5-7 तुलसी के पत्ते मिला लें और थोड़ा सा सेंधा नमक इसमें मिला लें और लकवे से प्रभावित अंगो पर इसका लेप करें। इससे आपको काफी आराम आएगा।

एक गिलास पानी में तुलसी के कुछ पत्तो को अच्छे से उबाल ले और इससे निकलने वाली भाप को लकवा ग्रसित अंगों को पहुंचने दे। इससे आपको काफी आराम मिलेगा।

सरसों के तेल –

सरसों के तेल में 60 ग्राम लहसुन मिला ले और उसको अच्छे से उबालें। जब यह तेल ठंडा हो जाए तो इसे छानकर किसी बर्तन में भर लें और लकवे से ग्रसित रंगों पर इस तेल का लेप करें। इससे भी आपको लकवा रोग में आराम आएगा।

यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आता है तो हमें कमेंट करके जरूर बताइए और अपने दोस्तों के साथ भी इसे शेयर करिए ताकि हम इस तरह की रोचक जानकारियां भविष्य में भी आपके लिए लाते रहे।

 धन्यवाद

अस्वीकरण

दी गई सभी जानकारी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञान के लिए दी गई है। हम क्षेत्र इकाई से अनुरोध करते हैं कि आप किसी भी सिफारिश / संकल्प का प्रयास करने से पहले अपने चिकित्सक से संपर्क करें। इस स्वास्थ्य से जुड़ी इस वेब साइट का उद्देश्य आपको अपने स्वास्थ्य से जुड़ा बनाना है और स्वास्थ्य से जुड़े आंकड़ों की आपूर्ति करना है। आपके डॉक्टर के पास आपके स्वास्थ्य के संबंध में उच्च डेटा है और उनकी सिफारिश का कोई विकल्प नहीं है।

Read also-

चावल खाने के फायदे और नुकसान

आलू खाने के फायदे और नुकसान

बुखार क्या होता है कारण,लक्षण और घरेलू उपचार

ganna khane ke fayde aur nuksan

संतरा खाने के फायदे और नुकसान

Piliya kya h karan lakshan aur upchar

Sinus kya h karan lakshan upchar

Share post

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *